रविवार, 6 दिसंबर 2009

आज ६ दिसम्बर है तो सोचो ज़रा

आज ६ दिसम्बर है । यह दिन भारत के इतिहास मे एक ऐसी जगह बना चुका है कि इसे इग्नोर नहीं किया जा सकता । अनेक तरह के राजनैतिक व अन्य संस्थाएं इस दिन को अपनी तरह से विचार व भाव प्रकट कर के मनाते हैं । लेकिन मैं इस दिन एक समझदारी की बात सामने रखना चाहता हूं ।

पिछले रविवार अमर उजाला अखबार के रविवार संस्करण में मौलाना वहीद्दुदीन खान का इंटरव्यू छपा था । मैं उसी इंटरव्यू का जिक्र करना चाहूंगा । उसे पढ़ कर मैने सोचा कि हमारे बीच में ऐसे उत्तम विचार वाले बुजुर्ग मौजूद हैं लेकिन उनकी बात न ध्यान से सुनी जा रही है और न ही संचार माध्यम उन्हे तरजीह दे रहे हैं । मैं तो सबसे, चाहे वे मुसलमान हों या हिन्दू, यही प्रार्थना करूंगा कि वे ऐसे विद्वानों को अपने समाज का नेतॄत्व दें और उनकी राह पर चलें । फ़साद खड़ा करके लाभ लेने वालों से बचें क्यों कि उसमे पड़ कर हम बिल्कुल गर्त में पहुंच जायेंगे । सारा इंटरव्यू तो यहां पुन:प्रकाशित करना उचित नहीं होगा लेकिन मैं कुछ हिस्से जरूर उद्धरित कर रहा हूं :

प्र. लिब्रहन आयोग ने पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंहराव को एक तरह से बरी कर दिया है । इसे आप किस तरह देखते हैं ? जबकि उनके प्रति मुसलिमों मे काफ़ी आक्रोश रहा है।

उ. नरसिंह राव को लेकर शिकायत गलत थी । प्रधानमंत्री रहते वह जिस पूजास्थल कानून को लेकर आये थे, वह पूरी तरह न्याय संगत था । बाबरी मस्जिद को छोड कर हर पूजा स्थल १९४७ से पहले जिस स्थिति मे था , उसी तरह रखे जाने की व्यवस्था उसमे कही गयी थी । वह अच्छी व्यवस्था थी , मुस्लिमों को कहना चाहिए था कि वह बाबरी मस्जिद के मसले पर कोर्ट मे लडेगें , तब किसी तरह का विवाद नही होता । पर उन्होने इस पर अपना रिएक्सन दिखाया । इससे मामला और उलझ गया ।

प्र. पिछले दिनों वंदे मातरम पर विवाद हुआ । ऐसी समस्यायों का क्या समाधान है ?

उ. मुस्लिम समाज अगर पिछड़ा है तो अपनी अज्ञानता के कारण । जब जरूरत आधुनिक शिक्षा की थी तब हमने बच्चों की तालीम संकीर्ण बना दी । यह कहां की बात हुई कि स्कूल न जाओ क्योंकि वहां वन्दे मातरम गाया जाता है ? पहले बच्चों को अंग्रेजी पढ़ने से रोका गया अब वंदे मातरम का विवाद खड़ा करते हैं । अगर मुसलमान समझते हैं कि वंदे मातरम गैर इस्लामी है तो उन्हे इक़बाल के इस शेर की भी मुखालफ़त करनी चाहिए , " खाके वतन तेरा हर ज़र्रा देवता है" । ऐसे विवादों से हम कौम और देश को पीछे कर रहे हैं । मुस्लिम नेतृत्व को कौम की शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए सक्रिय होना चाहिए । जरूरत इस बात की है कि जब इस तरह के विवादों को हवा देने की कोशिश हो, लोग उसके विवाद में न फसें । यह इस देश की मुस्लिम कौम का दुर्भाग्य है कि विभाजन के बाद ज्यादा तर पढ़े लिखे लोग पाकिस्तान चले गये और वहां से अमेरिका जाकर उनकी सेवा करने लगे । उनकी योग्यता का लाभ कौम को नहीं मिला । न वे हमारे काम आये न पाकिस्तान के ।

प्र. बाबरी मस्ज़िद प्रकरण का जिन्न क्या यों ही देश की आबोहवा खराब करता रहेगा ? आखिर इसका समाधान क्या है ?

उ. मैने बाबरी मस्ज़िद में १९४७ से पहले नमाज़ पढ़ी है । मेरे मन में कौतूहल था कि उस जगह को देखूं जहां के बारे में कहा जाता है वहां मस्ज़िद है और उसके अन्दर मन्दिर है । तब मैने गौर किया था कि वहां मन्दिर नहीं बल्कि एक चबूतरा सा था , जिसमे खड़ाऊं, बेलन आदि के निशान बने थे । सही मायनों मे यह सीताजी का रसोई घर थी । मीर बाकी के समय के किसी सूफ़ी संत को लगा था कि अगर इस जगह के पास मस्जिद भी बना दी जाए तो दोनो समुदाय मे आपसी सौहार्द बढ़ेगा । यह गलत सोच थी । नवाब की हुकुमत और अंग्रेजों के समय मे भी कभी यह विवाद का विषय नहीं बना । लेकिन नेहरु के प्रधानमंत्री काल में जब उस जगह तीन मूर्ती या फोटो रखे गये तो यह विवाद का विषय बन गया । आप इसके समाधान की बात कहते हैं तो वह यही है कि एक मस्ज़िद पर मुसलमान चुप हो जाएं और एक के बाद दूसरी मस्ज़िद पर हिंदू चुप हो जाएं । अब इससे बाहर आइए । बहुत हो गया । दुनिया के साथ जो विकास की होड़ है उसमे अपने लिए सार्थक रास्ता निकालिए । ऐसे मसलों पर घिरे मत रहिए । गावों में टेलीफोन, बिजली, स्कूल नहीं हैं, उनके बारे में सोचिए । आतंकवाद जिस तरह सिर उठा रहा है, उससे लड़ने के लिए सबल हो जाइए ।

प्र.दुनिया मुस्लिम जगत को किस तरह से देख रही है ? खासकर तब जबकि अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा भी एक ’मुस्लिम’ हैं ?

उ. अमेरिका को इस्लाम और हिंदुत्व से लेना देना नहीं । वह ’बिजनेस आफ अमेरिका इज बिजनेस’ की थ्योरी पर चलता है । अभी देखिए, ओबामा ने हमारे प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा, उनके लिए १५० अरब डालर के निवेश की संभावना बनती है । यह सब क्या है ? यह भूल जाइए कि उसे इस्लाम शब्द से दिक्कत है । वह बस कमाना चाहता है ।

प्र. क्या मुसलिमों ने कांग्रेस को माफ़ कर दिया है ?

उ. देखा जाए तो कांग्रेस से मुस्लिमों की नाराजगी नहीं रही है । बाबरी मस्ज़िद प्रकरण के बाद आक्रोश जरूर उभरा लेकिन धीरे धीरे थम भी गया । कांग्रेस अगर मुस्लिमों का अभी पूरा साथ नही ले पा रही है तो उसके कारण दूसरे हैं ।

प्र. मुस्लिम समाज की बेहतरी के लिए आप क्या सोचते हैं ?

उ. मुस्लिम समाज को अपनी नकारात्मकता से बाहर आना चाहिए । मुसलमान गलत लीडरशिप की वजह से पिछड़ गए । अब मुसलमान चुनाव के समय निगेटिव वोटिंग से बचें । यानी यह सोच कर वोट न दें कि मुसलमानों के हिसाब से कौन सही है और कौन गलत । वे देखें कि उनके क्षेत्र का असल विकास कौन कर सकता है । मुस्लिम समाज को जानना चाहिए कि आज की दुनिया की तरक्की माडर्न एजुकेशन से हुई है , ’संस्कृत’ या ’अरबी’ से नहीं। माडर्न शिक्षा नहीं लेगे तो पिछड जाएगें । दर असल मुसलमान अपने पिछडेपन की कीमत चुका रहा है । डेढ़ सौ साल मे हम ठहर गए । ’हाला’ का एक शेर है - बस अब वक्त का हुक्म नातिक यही है, कि दुनिया में जो कुछ है तालीम ही है ।


अंत में यही प्रार्थना करूंगा कि सभी जिम्मेदार लोग थोड़ा स्वार्थ से उपर उठ कर पूरे समाज को अगर तालीम और तरकी के रास्ते पर ले जाएं ।

1 टिप्पणी:

  1. ye to text likh di aap ne.....kuchh line aur badha ya ghata sakte hain aap agr is ki orignal vidio aap ke pas ho to blog pe lagaen ,,,,,
    Dhnyabad

    उत्तर देंहटाएं