बुधवार, 31 मार्च 2010

प्रथम प्रेम फुहार

तुम्हारी चितवन के तीर
मेरा मन हुआ अधीर
रह गयी अमिट पीर

5 टिप्‍पणियां: